Monday, March 27, 2023
Home Varat katha

Varat katha

Varat katha व्रत के आचरण से पापों का नाश, पुण्य का उदय, शरीर और मन की शुद्धि, अभिलषित मनोरथ की प्राप्ति और शांति तथा परम पुरुषार्थ की सिद्धि होती है। अनेक प्रकार के व्रतों में सर्वप्रथम वेद के द्वारा प्रतिपादित अग्नि की उपासना रूपी व्रत देखने में आता है। इस उपासना के पूर्व विधानपूर्वक अग्निपरिग्रह आवश्यक होता है।

अपरा एकादशी

अपरा एकादशी 2022 का व्रत करने से क्या लाभ होता है और इसका महत्व...

अपरा एकादशी : अपरा एकादशी के दिन श्री मन नारायण के विष्णु रूप की पूजा करने से मनुष्य समस्त पापों से मुक्त होकर गोलोक को...
अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी 2022 की व्रत कथा की पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक प्राप्त करें ...

अहोई अष्टमी अहोई अष्टमी पर विशेष पूजा के साथ पूरी कथा का पाठ करने से बच्चों के जीवन में सुख की प्राप्ति होती है.हमारे देश...
अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी 2022 का व्रत कब रखा जाएगा इसका शुभ मुहूर्त इस व्रत का...

अहोई अष्टमी अहोई अष्टमी कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी को व्रत रखा जाता है। वर्ष 2022 में 17 अक्टूबर को रखा जाएगा। दिन महिलाएं अपनी...
करवा चौथ

करवा चौथ 2022 पति की लंबी आयु की लिए व्रत रखा जाता है इसके...

करवा चौथ करवा चौथ के दिन यदि आप इस व्रत की संपूर्ण कथा का पाठ करती हैं तो जीवन में हमेशा सौभाग्य बना रहता...
दुर्गा

दुर्गा माता जी की व्रत कथा 2022 और इन के व्रत से क्या लाभ...

दुर्गा (दुर्गा) धार्मिक कथाओं के अनुसार एक बार बृहस्पति जी ने ब्रह्मा जी से पूछा कि चैत्र और आश्विन मास के शुक्ल पक्ष में नवरात्रि...
भगवान विष्णु

भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए करें 1 व्रत कथा

गुरुवार को भगवान बृहस्पति की पूजा का विधान है. इस पूजा से परिवार में सुख-शांति रहती है. जल्द विवाह के लिए भी गुरुवार का...